मंगलवार, 28 दिसंबर 2010

अधीर करते "अधर"

              अधर तेरे ये सीप से,
        और एक एक बोल मोती से,
               तिस पर मुस्कान मखमली,
         इन्हें देखूं तो छूने की चाह,
                छूं लूं तो चूम लेने की चाह,
          चूमूं तो संजो लेने की चाह,
                 पर संजो कब पाया है कोई,
          रूई के फ़ाहों सी,
                  खुशबू, सुन्दरता और हंसी।

6 टिप्‍पणियां:

  1. पर संजो कब पाया है कोई,
    रूई के फ़ाहों सी,
    खुशबू, सुन्दरता और हंसी।

    वाह ! क्या खूब चित्रण किया है …………सुन्दर परिभाषा गढी है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोमल भावों से पूर्ण बहुत सुन्दर प्रस्तुति..नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. NAYA SAAL 2011 CARD 4 U
    _________
    @(________(@
    @(________(@
    please open it

    @=======@
    /”**I**”/
    / “MISS” /
    / “*U.*” /
    @======@
    “LOVE”
    “*IS*”
    ”LIFE”
    @======@
    / “LIFE” /
    / “*IS*” /
    / “ROSE” /
    @======@
    “ROSE”
    “**IS**”
    “beautifl”
    @=======@
    /”beautifl”/
    / “**IS**”/
    / “*YOU*” /
    @======@

    Yad Rakhna mai ne sub se Pehle ap ko Naya Saal Card k sath Wish ki ha….
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut pyari makhmali sa ehsaas karati aapki ye rachna ..rooi ke faahe se bhi komal lagi :-)

    उत्तर देंहटाएं