शुक्रवार, 28 जनवरी 2011

"एक सवाल मीठा सा..........."

मै तो सो रहा था,
तुम्हारी ही आँखों में,
तुमने आँखें क्यों खोली |

मै तो बुन रहा था खामोशी,
अपनी नज़रों से,
तुमने जुबान क्यों खोली |

तुम मुस्कुराई थीं,
कुछ आधा सा,
सो देखो सारे फूल,
अधखिले से |

लकीरें खींच रहीं थीं,
तितलियाँ
मन पर तेरे जिस्म की,
तुमने अँगड़ाई क्यों ली |

अधर पर नयन रखूं कि,
नयन पर अधर,
कभी तो आधे अधर,
कभी आधी आँखें क्यों खोलीं |




10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कविता बहुत बढ़िया है ...शब्दों को चतुराई से प्रयोग किया है ... लेकिन आप भ्रमित मत होना ...शुक्रिया आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं