शनिवार, 1 जनवरी 2011

"नए साल की पहली पोस्ट"

               नए साल के इन्तज़ार में कुछ ऐसा लग रहा था कि जैसे हम ’समय’ के एक बहुत बड़े चक्कर-झूले पर बैठे हों और वह झूला हमें थोड़ी देर बाद किसी नए ठिकाने पर उतार देगा पर ऐसा तो कुछ भी नही हुआ।कुछ भी तो नया नही लग रहा है। जैसे खेत में लगा रहट दिन भर तो चलता रहता है पर पानी तो एक निश्चित स्थान पर ही गिरता रहता है बिल्कुल उसी तरह हम भी वहीं जमें हुए हैं। चारों ओर से पटाखों की आवाज़ें आ रही हैं,सड़कों पर खूब हुड़दंग हो रहा है।सारे लोग बहुत खुश हैं,समझ नही आ रहा है कि उन्हें क्या मिल गया या मिलने वाला है।
                 ये तो नई इनिंग की शुरुआत सी है,अभी तो टॉस होगा खेल होगा कोई जीतेगा कोई हारेगा।खेल के पहले ही जश्न मना लिया, पता चला खेल में फ़ुस्स।
                  सच है,नया टाइम पीरियड प्रारम्भ हुआ है,नये उत्साह,उमंग और जोश से हमें यह दौड़ लगानी है और सफ़ल ज़िन्दगी की दूरी तय करनी है।पर शुरुआत की आपाधापी में ही कहीं हम अपना स्टार्टिंग मार्क ना भूल जाएं या अपने ट्रैक से भ्रमित ना हो जाएं।मैराथन तो हज़ारों लोग एक साथ शुरु करते हैं पर अन्त में कुछ सौ-एक लोग ही उसे पूरी कर पाते हैं।भीड़ से अलग होने के लिए कुछ ’अलग’ ही करना होगा।
                      इस ’अलग’ को तय  करने का केवल एक ही बेंच मार्क है कि हर अगला दिन हमारे पिछले दिन से बेहतर होना चाहिए और यह साफ़ साफ़ दिखना चाहिए कि हमारे होने से हमारे आस पास और समाज में कुछ नया और अच्छा  हर दिन जुड़ता सा जा रहा है।
                       हम ’दायित्वों’ के बोध को ’अधिकारों’ के बोध से ऊपर रखें तो शायद बहुत कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा,इसी आशा के साथ आप सभी को नए साल की शुभकामनाएं।

10 टिप्‍पणियां:

  1. बस इतना ही कह सकता हूँ ...

    इस रिश्ते को यूँही बनाये रखना,
    दिल में यादो के चिराग जलाये रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2010 का,
    अपना साथ 2011 में भी बनाये रखना!
    नव वर्ष की शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये तो नई इनिंग की शुरुआत सी है,अभी तो टॉस होगा खेल होगा कोई जीतेगा कोई हारेगा।खेल के पहले ही जश्न मना लिया, पता चला खेल में फ़ुस्स।
    xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    गहन जीवन दर्शन ...बहुत सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय amit srivastava जी
    आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें...स्वीकार करें
    बहुत खूब ...अंदाज -ए- वयां पसंद आया
    आपका अनुसरण कर लिया ..नव वर्ष पर आपको क्या तोहफा दिया जा सकता है ...हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नया साल शुभा-शुभ हो, खुशियों से लबा-लब हो
    न हो तेरा, न हो मेरा, जो हो वो हम सबका हो !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को भी सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको तथा आपके पूरे परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  8. .

    हम ’दायित्वों’ के बोध को ’अधिकारों’ के बोध से ऊपर रखें तो शायद बहुत कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा.....

    बहुत सटीक बात कही आपने।
    नव वर्ष मंगलमय हो।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    साल ग्यारह आ गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन पुलकित हो गया आप सभी का स्नेह एवं आशीर्वाद पाकर,आभार।

    उत्तर देंहटाएं