रविवार, 22 जुलाई 2012

"एक सावन ऐसा भी हो..........."



आओ सजनी सजा दूँ तुझे,
हाथों में मेहँदी लगा दूँ तुझे,

उलझी जुल्फें सवांर दूँ,
कान पे लट निकाल दूँ ,

मूँदे रखना ज़रा नयन अपने,
कजरारी पलकें निखार दूँ ,

लगाऊं कुमकुम माथे पर,
सिन्दूर से मांग संवार दूँ ,

ये गाल में बनते गड्ढे तेरे,
डिठौना इन पे वार दूँ ,

आज बन जाऊं मनिहार तेरा,
तू लाज शर्म सब छोड़ दे ,

लचकाऊ तेरी गोरी कलाइयां ,
हरी हरी चूड़ियाँ उनमे डाल दूँ ,

लब थाम ले साँसे रोक ले,
लबों पे लाली तो लगा दूँ ज़रा,

पायल पहनाऊं अपने हाथों से ,
पर बोल उनके निकाल दूँ ,

जब सजा लूँ तुझे ,
फिर जी भर देखूं तुझे ,

और तुझ पे इतराते हुए,
अपने बाहों की माला तुझ पे डाल दूँ ,

फिर झुलाऊं तुझे अपनी बाहों में ,
और यूं ही जीवन तुझ पे वार दूँ ।

                                             "एक सावन ऐसा भी हो "

17 टिप्‍पणियां:

  1. वाह.......
    एक क्यूँ....हर सावन ऐसा ही हो....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. अहा,
    सावन तुझे सँवार दूँ, प्रियतम के हरे भरे मन से।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर .... यह सब करना तो आपके हाथ में है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर सावन ऐसा ही होना चाहिए..मनमोहक सुन्दर सजी धजी सी खुबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक शेर याद आ गया ..
    हजारों ख्वाईशें ऐसी कि हर ख्वाइश पे दम निकले :).

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस धरती पर न ऐसा सावन मिलेगा न ऐसी सजनी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सपनो का सावन तो ऐसा ही हो , कि कभी हकीकत भी हो !
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर मनभावन सावन..
    मीत की प्रीत से रंग जाये मोरा मन..
    बहुत सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक नहीं सब सावन ही ऐसा हो..सुंदर सावन..

    उत्तर देंहटाएं
  10. सावन के मौसम में प्रेयसी का अच्छा श्रिंगार क्या बात हैं ..

    उत्तर देंहटाएं