रविवार, 1 जनवरी 2012

" कोशिश रहेगी कि.... ..."

अपने में उनको, 
समेटे रहूँ, 
और उनमे ही,  
अपने को बिखेर दूँ,
ख़्वाब मै ही देखूँ, 
उनके तसव्वुर का,
उनके ख्याल में भी न आऊं,
मैंने तो चाहा दिल-ओ -जान  से, 
फिर यादें उनकी मै क्यूँ न सहेजूँ,
कतरा के निकलते है वो, 
तकलीफ होती तो होगी, 
वादा है कभी न पडूँ सामने,
सुना है मेरे ज़िक्र पे, 
भींच लेते है वो होंठ,
और मै हूँ कि होंठों, 
पे रक्खे उनके ज़िक्र,
कोशिश रहेगी कि.... .,
ख्याल से भी उनके ख्याल में न आऊं,
ऐसा उनका यह नया साल रहे !!!!!!! 

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छा लिखे हैं सर!

    आपको नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. नव वर्ष बस सुख के अतिरिक्त कुछ न बोले।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नया वर्ष प्रभु के आशीर्वचनों से परिपूर्ण हो ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर...आप को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोशिश रहेगी कि.... .,
    ख्याल से भी उनके ख्याल में न आऊं,

    bahut sundar...
    kuch khayalon ka awagaman darshaya nahi jaata...magar jaane-anjaane ve aa hi jaate hain...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर कल्पना एवं बेहतरीन रचना।
    काश,सभी की ऐसी होती,जितनी सुन्दर यह अभिलाषा।
    नया वर्ष शुभ आप सभी का,ईश्वर से यह मेरी आशा।।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने में उनको,
    समेटे रहूँ,
    और उनमे ही,
    अपने को बिखेर दूँ,

    बहुत खूब... नववर्ष की हार्दिक शुभ-कामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वर्ष नव, हर्ष नव, उत्कर्ष नव... शुभ 2012...

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुना है मेरे ज़िक्र पे,
    भींच लेते है वो होंठ,
    और मै हूँ कि होंठों,
    पे रक्खे उनके ज़िक्र,

    क्या बात है... बहुत बढ़िया.... सादर बधाई और नूतन वर्ष की सादर शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच्ची भावना ऐसे ही प्रतिध्वनित होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. aksar koshishen kamyaab ho jaaya karti hain/..
    bahut badiya rachna..
    Navvarsh kee haardik shubhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. namaskar ...happy new year .

    bahut sunder abhivyakti hai . badhai .

    mere blog par aane ke liye shukriya .....swagat hai aapka .dhanyavad

    उत्तर देंहटाएं
  19. कतरा के निकलते है वो,
    तकलीफ होती तो होगी,
    वादा है कभी न पडूँ सामने,

    sundar bhavbhivyakti badhai ke sath hi abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  20. "सुना है मेरे ज़िक्र पे,
    भींच लेते है वो होंठ,
    और मै हूँ कि होंठों,
    पे रक्खे उनके ज़िक्र,"

    बेहद सुंदर ! बहुत ही खूबसूरत रचना ।

    उत्तर देंहटाएं