सोमवार, 16 जनवरी 2012

" वाइपर और ज़िन्दगी ...."

           
              हलकी सी भी बारिश अगर लगातार हो रही हो और कार का वाइपर काम न करे ,तो फिर आँख के आगे का पूरा दृश्य धुंधला हो जाता है और आँखे बेमानी हो उठती हैं | कितनी भी ज़ोरों की बारिश हो ,वाइपर चलता रहा बस, फिर बारिश में कार चलाने का लुत्फ़ आ जाता है | देखें तो, महज दो डंडियाँ बस, लगातार पानी पोछती हुई ,कार की कीमत के आगे उन डंडियों की कीमत नगण्य ,पर वे काम न करें तो बारिश में कार बेकार |
              ज़िन्दगी में भी हमारी ऐसे अक्सर बारिश होती रहती है ,कभी खुशियों की ,कभी दुखों की ,कभी धन दौलत की, अवसरों की ,कभी अभावों की | हम इन बारिशों में अक्सर अपनी ऑंखें धुंधली कर लेते हैं | हमें साफ़ साफ़ कुछ दिखाई नहीं पड़ता है और परिणाम स्वरूप  कभी हर्ष के अतिरेक में और कभी विषाद के साए में अपने लक्ष्य और पथ से भ्रम-वश भटक जाते हैं और इसका भान तब होता है, जब बारिश थमती है पर तब तक बहुत देर हो चुकी होती है |
              ज़िन्दगी की गाड़ी चलाने का लुत्फ़ तभी आ सकता है, जब आपकी जिंदगी रुपी गाड़ी में 'विवेक' रुपी वाइपर लगा हो, जो बारिश चाहे जैसी हो बस उसे साफ़ कर आगे का रास्ता स्पष्ट करता चले | और अगर ऐसा है तो फिर खराब वाइपर वाली 'होंडा सिटी' को अच्छे वाइपर वाली मारुती '८००' भी जीवन की दौड़ में पछाड़ सकती है |
              बस आवश्यकता है एक जोडी वाइपर की ,जिसमे से एक वाइपर आपका और दूसरा आपके जीवन साथी का हो | हाँ ! दोनों एक ही कला में चलने भी चाहिए नही तो उनमे आपस में टकराने का खतरा हो जाएगा और वे आपस में उलझ कर अपना कार्य करना बंद कर देंगे | फिर तो अच्छे वाइपर होते हुए भी आगे कुछ दिखाई नहीं पडेगा |
             
                "बात तो मामूली सी है,पर है समझ से परे "

20 टिप्‍पणियां:

  1. काश कोई ऐसी बरसातें साफ करता हुआ चले,
    बड़ा ही तार्किक आलेख..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक ...विचारनीय ...बहुत सुंदर सोच परिलक्षित करता हुआ सुंदर आलेख ....!!शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. गूढ़ बात कही दाम्पत्य जीवन को निशाना बनाकर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर तार्किक रचना| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक और सामयिक प्रस्तुति, आभार.

    पधारें मेरे ब्लॉग पर भी और अपने स्नेहाशीष से अभिसिंचित करें मेरी लेखनी को, आभारी होऊंगा /

    उत्तर देंहटाएं
  6. "बात तो मामूली सी है,पर है समझ से परे "…………इसी मे सारा सार निहित है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बारिश के मौके के उदाहरण सर्दी में निकल रहे हैं। :)

      हटाएं
  7. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति
    कल 18/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, जिन्‍दगी की बातें ... !

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. साफ़ देखना है तो वाइपर चाहिए ही! वर्षा हो या मुद्दा :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. समयानुसार सबकी अपनी कीमत होती है , अपना अस्तित्व होता है

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ..बहुत सुन्दरता से आपने ज़िन्दगी की तुलना वाइपर से की है ..
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. सही और सटीक बातें लिखी हैं आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ख़ूबसूरती से वाईप किया है आपने। बेहतरीन लेख।

    उत्तर देंहटाएं
  13. विवेक रुपी वाईपर हों साथ तो बात ही क्या .. बहुत सार्थक लेख

    उत्तर देंहटाएं
  14. सटीक विश्‍लेषण।
    कम शब्‍दों में जीवन का सार....

    उत्तर देंहटाएं
  15. excellent...excellent...
    i like it very muchhhhh...
    बहुत बढ़िया एवं सार्थक लेखन...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं