सोमवार, 30 अप्रैल 2012

" स्मृति की एक बूंद मेरे काँधे पे......."



उस रात,
काजल लगी,
आँखों से,
जो एक आंसू,
टपका था तुम्हारा,
मेरे काँधे पे,
वक्त के साथ,
आंसू तो सूख गया,
पर काजल का,
वो एक कण,
ठहरा हुआ है वहीं,
अब भी,
मेरे काँधे पे,
बन एक तिल छोटा सा,
रखता हूँ जब कभी,
हथेली उसपे,
लगे रूह में जैसे,
उतर आई हो तुम । 

19 टिप्‍पणियां:

  1. वो तिल रिज़र्व रखेगा कांधा,
    उसके लिए,
    जिसने कभी आँसू बहाए थे,कजरारी आँखों से......

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओह..बहुत गहरे अहसास होते हैं आपकी कविता में .

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहरे एहसास ...एक वो कंधा जहाँ ..ये जहान भी रुकने को बेताब हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. आंसू तो सूख गया,
    पर काजल का,
    वो एक कण,
    ठहरा हुआ है वहीं,

    खूबसूरत......!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन को अर्थ देते एहसास .....
    दर्द जीती कविता ....
    बहुत ही सुंदर ....!!
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही गहन भाव लिए मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बढिया लिखा है आपने ...
    कल 02/05/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ...'' स्‍मृति की एक बूंद मेरे काँधे पे '' ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्मृति कण को रूह की तरह महसूस करना... नमन है आपकी लेखनी को... अनूठा अहसास

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरे काँधे पे,
    बन एक तिल छोटा सा,
    रखता हूँ जब कभी,
    हथेली उसपे,
    लगे रूह में जैसे,
    उतर आई हो तुम ।

    वाह अमित जी बहुत ही भावभीना ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut hi khoob surati ke saath apne dil ke jajbaaton ko apni lekhni ke jariye uker diya hai aapne
    bahut hi aatmiy ahsaas
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  11. .

    लगे
    रूह में जैसे
    उतर आई हो तुम …


    प्रिय की छोटी-सी निशानी भी बहुत बड़ा सम्बल है…

    …और कांधे पर काजल के कण का उदाहरण इससे पहले कहीं ध्यान में नहीं आया …
    सुंदर बिंब !
    अमित श्रीवास्तव जी
    सुंदर कविता !

    आभार !

    उत्तर देंहटाएं