बुधवार, 27 अप्रैल 2011

"पासवर्ड"

इस हाईटेक दुनिया में,
सब कुछ हासिल,
पासवर्ड से,
क्या मोबाइल, 
क्या कम्प्यूटर, 
दरवाज़े, ताले, 
तिजोरी, 
बैंक खाता, 
सब चलते, 
इससे |
लाखों, करोड़ों, 
इधर से उधर, 
बस एक, 
पासवर्ड से |
वैसे पासवर्ड, 
की ईजाद,
कोई, 
नई नहीं |
अलीबाबा का, 
"खुल जा सिम सिम", 
पासवर्ड ही था |
पर इस सब से, 
इतर, 
एक पासवर्ड और है,
जो खोल सकता है, 
तमाम दिलों को, 
तमाम बंद रिश्तों को, 
तमाम उलझनों को |
रिश्ते जैसे, 
पति -पत्नी के,
सास-बहू  के,
भाई -भाई के, 
अड़ोसी-पडोसी के, 
डाक्टर-मरीज़ के,
दोस्त-दोस्त  के,
वगैरह वगैरह |
मगर इस पासवर्ड के, 
साथ एक शर्त, 
इतनी सी कि,
मंशा भी, 
झलकनी चाहिए, 
सच्ची |
और हाँ ! 
वो, 
पासवर्ड है, 
बस,
**************  
"दो बोल प्यार के" 



अरे एक रिश्ता, 
तो मै भूल ही, 
गया था, 
"ब्लागर और,
टिप्पणीकार का", 
( इसमें भी उलझने बहुत दिख जाती है प्रायः ) 


44 टिप्‍पणियां:

  1. इस पासवर्ड की महिमा ही निराली है सर!


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पासवर्ड से ही प्रेम का ताला खुलता है नयी सोंच , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुल जा सिम सिम से प्यार के दो बोल तक के पासवर्ड का खुलासा कर आपने एक
    सर्वकालिक और सार्वभौमिक सत्य का उद्घाटन किया है -कविता ऐसी होनी चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  5. @ yashwant bhai ne sahi kaha
    इस पासवर्ड की महिमा ही निराली है

    उत्तर देंहटाएं
  6. "प्यार के दो बोल" ...Indeed the key of a beautiful relationship . I agree !

    उत्तर देंहटाएं
  7. "दो बोल प्यार के"

    अगर यह होगा तो सब पासवर्ड खुल जायेंगे ....आपे बहुत सुन्दरता से भावनाओं को शब्दों में पिरोया है ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. sahee par har rishte ka ek alag password hai.......
    satark rahna bada jarooree hai jee.......
    varna uljhane hee uljhane ho jaegee.......... :)

    badiya prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अमित जी,
    अगर इस पासवर्ड को सब लोग अपनाते
    तो कितना अच्छा होता .......
    बहुत अच्छी रचना है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. kaash ye wala password sab apne jehan mein rakhe; to jindgi kitni khoobsoorat ho jaaye....bahut sundar...thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात है अमित जी ....
    पर ये पासवर्ड तो किसी को बताया नहीं जाता ..
    और आप बताते जा रहे हैं ...
    अब संभल कर रहिएगा .....:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. amit ji
    kaya likhun
    aapka password to sach me kamaal ka hai.kitni gahanta ke saath aapne password ke kitne hi roop dikha diye .bahut bahut achha lagai aapki yah post
    lazwab
    badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह जी !
    प्रत्युतपन्न मति खाँची भर बोझियाये हैं , लगता है आप !!
    सच में इस पासवर्ड का प्रभाव गजब का होगा, बस सबकी आइडी इस्से खुलने लगे :)

    बढ़िया लगा पढ़ कर ई कविता ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  14. पासवर्ड को प्यार तक बखूबी पहुँचाया आपने अपनी कविता के ज़रिये ,वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपका पासवर्ड बखूबी पहुँच रहा है सब तक इस सुन्दर कविता के ज़रिये...
    लगता है सारे ताले खुल जायेंगे..

    मगर इस पासवर्ड के,
    साथ एक शर्त,
    इतनी सी कि,
    मंशा भी,
    झलकनी चाहिए,
    सच्ची.....

    वाह... सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  16. साथ एक शर्त,
    इतनी सी कि,
    मंशा भी,
    झलकनी चाहिए,
    सच्ची |
    और हाँ !
    वो,
    पासवर्ड है,
    बस,
    **************
    "दो बोल प्यार के"
    kya baat hai .sahi kaha yahi hai jeevan ki kunji

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दरता से भावनाओं को शब्दों में पिरोया है ....आपका आभार
    मेरी ओर से आपको हार्दिक शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  18. अमित जी प्रणाम !
    प्रेम से तो बड़े बड़े ताले खुल जाते है.....मन की गांठे खुल जातीं है ....मन मिल जाते हैं....सचमुच प्रेम से प्रभावी कोई पासवर्ड नहीं है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक पासवर्ड और है,
    जो खोल सकता है,
    तमाम दिलों को,
    तमाम बंद रिश्तों को,
    तमाम उलझनों को ....

    "दो बोल प्यार के"

    Very nice...Very Touching...

    उत्तर देंहटाएं
  20. क्या बात है क्या तुलना की है अलीबाबा का सिम सिम पास वर्ड ही तो था मगर वहां गलत पास वर्ड के प्रयोग से नुक्सान उठाया गया यहां ऐसा खतरा नहीं है । अच्छी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  21. शाश्वत सत्य को अपने ढंग से प्रस्तुत किया है आपने अपनी सुन्दर रचना में .....खूबसूरत अंदाज़

    'दो बोल प्यार के ' ........................अनूठा पासवर्ड

    ...................................................................................................

    वशीकरण यक मन्त्र है ,तज दे वचन कठोर .............तुलसी

    मधुर वचन है औषधी, कटुक वचन है तीर ,,,,,,,,,,,,,, कबीर

    उत्तर देंहटाएं
  22. जी हाँ अमित जी, दो बोल प्यार के और
    " ढाई आखर प्रेम का " में बड़ी ताक़त है.
    सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  23. अमीत जी इसी लिए कहते है ढाई अक्षर प्रेम का , पढ़े सो पंडित होय ! बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  24. "दो बोल प्यार के"
    यह पास वर्ड केसा रहा अमित जी --बहुत खूब सुरत ?

    उत्तर देंहटाएं
  25. दो प्यार के बोल ... सच में ये एक ऐसा पासवर्ड है जो हर समस्या का हाल है ... बहुत लाजवाब कविता और उसमें छिपा संदेश है ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. खुल जा सिमसिम निश्चित ही पासवर्ड था। मैने अमेरिका में मेरे पोते को सिखा दिया था, जैसे ही लिफ्‍ट आती वो बोलने लगा था, खुल जा सिमसिम। बड़ा मजा आता था।

    उत्तर देंहटाएं
  27. sir ji namaskar
    aapke blog par aaya to
    man parsan ho gaya ek baar phir rachna padhkar k

    उत्तर देंहटाएं
  28. mai pradeep ji ki baat se sahmat hoon sir ji,
    sach me prem ke is pasword se koi bhi lock khola ja sakta hai,
    isse bada koi pasword nahi hai duniya me..........

    उत्तर देंहटाएं
  29. कल 28/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  30. " इस हाईटेक दुिनया म, सब कुछ हािसल, पासवड से, या मोबाइल, या कयूटर, दरवाज़े, ताले,
    bahut khoob.
    Blogger aur tippanikar ka pasward hai.
    ....blog.... Par.....niyamit. ...aanaa.......

    उत्तर देंहटाएं
  31. "दो बोल प्यार के"…………इनकी महिमा न्यारी है।

    उत्तर देंहटाएं