सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

"वैलेन्टाइन डे" या "प्यार-प्रण दिवस"

जब भी मैं होऊं रिक्त,
पूर्ण करो मुझे तुम,
और तुम्हारी शून्यता,
संगीत से भरूँ मैं |
उदासी का कैनवस,
दिखे जब कभी भी,
साथ मिल भर दें,
सारी कायनात के रंग |
जुबां से पहले,
सुन ले दिल |
आँखों से पहले,
बोल दे नज़र |
प्यार कभी ना हो आहत,
बस इतना सा ख्याल रहे |
थोड़ा खट्टा थोड़ा मीठा,
अपना यूँ  व्यवहार रहे |
"happy valentine day"

25 टिप्‍पणियां:

  1. उदासी का कैनवस,
    दिखे जब कभी भी,
    साथ मिल भर दें,
    सारी कायनात के रंग |

    प्रेम की सार्थक अभिव्यक्ति.....

    जवाब देंहटाएं
  2. पूरा एक्शन प्लान बना लिया। अब अमल शुरु किया जाये।

    जवाब देंहटाएं
  3. उदासी के कैनवास पर मिल कर भरेंगे कायनात के रंग ...
    बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! कमाल की अभिव्यक्ति!

    मेरा कथन-
    "आओ गीत लिखें,
    हारें क्यो हम
    गम से डर से
    प्रीत की रीत लिखें,
    आओ गीत लिखें!"

    जवाब देंहटाएं
  5. प्यार कभी ना हो आहत,
    बस इतना सा ख्याल रहे |
    थोड़ा खट्टा थोड़ा मीठा,
    अपना यूँ व्यवहार रहे |....

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही भावमयी प्रेममयी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  7. सामयिक और भावों से ओत-प्रोत रचना.

    जवाब देंहटाएं
  8. थोड़ा खट्टा थोड़ा मीठा,
    अपना यूँ व्यवहार रहे |

    उत्तम...

    जवाब देंहटाएं
  9. प्यार कभी ना हो आहत,
    बस इतना सा ख्याल रहे |
    थोड़ा खट्टा थोड़ा मीठा,
    अपना यूँ व्यवहार रहे |

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  10. amit ji
    bahut bahut behatreen prastuti .
    velentain de, ke avsar.
    जुबां से पहले,
    सुन ले दिल |
    नयनों से पहले,
    बोल उठे नज़र |
    bahut khoobsurat abhivyakti---
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  11. बचपन से आज तक , कभी valentine day नहीं जाना की क्या बला है । कविता अच्छी लगी ।

    जवाब देंहटाएं
  12. क्यों न हम होली - डे मनाएं... तो फिर, विदेश से इम्पोर्ट करने की आवश्यकता क्या :)

    जवाब देंहटाएं
  13. प्यार कभी ना हो आहत,
    बस इतना सा ख्याल रहे |
    थोड़ा खट्टा थोड़ा मीठा,
    अपना यूँ व्यवहार रहे |बहुत सामायिक कविता ,अतिउत्तम

    जवाब देंहटाएं
  14. आज के दिन आपको मेरी प्यार भरी शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  15. प्रेमदिवस की शुभकामनाये !
    कुछ दिनों से बाहर होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका
    माफ़ी चाहता हूँ

    जवाब देंहटाएं
  16. प्रिय अमित निवेदिता जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    बहुत सुंदर रचना है … प्रेम के सुंदर भाव
    जुबां से पहले,
    सुन ले दिल

    आपसी तालमेल ऐसा ही होना चाहिए …
    प्रेम की ऐसी अच्छी अभिव्यक्ति पढकर बहुत ख़ुशी हुई !

    ♥ प्रेम बिना निस्सार है यह सारा संसार !
    ♥ प्रणय दिवस की मंगलकामनाएं! :)

    बसंत ॠतु की भी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत खूब .....

    आपको ये खट्टा +मीठा प्यार मुबारक ......

    जवाब देंहटाएं
  18. वाह वाह यही है प्यार थोडा खट्टा थोडा मीठा.

    जवाब देंहटाएं
  19. आँखों से पहले,
    बोल दे नज़र |

    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं