सोमवार, 7 फ़रवरी 2011

"एक गुलाब ऐसा भी"

मंद मंद मुस्काई कभी,
मुस्काई कभी मन ही मन|
कभी कभी तो लजाई आँखें,
पलकें भी शरमाई कभी|
हसीं तुम्हारी यूँ लगे,
जैसे हो रस्सा-कशी,
होंठ  और कपोलों में|
घुंघराले केश तुम्हारे,
जब कभी लहरे,
बिखर  सी जाती,
खुशबू तुम्हारी |
कहीं तुम गुलाब तो नहीं ?



   

11 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार में रमे मन में चलने वाले द्वंद्व का मार्मिक चित्रण किया है आपने ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही भावपूर्ण और सजीव चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावपूर्ण एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  4. हसीं तुम्हारी यूँ लगे,
    >
    >
    जैसे मोनोलिसा स्माइल :)

    उत्तर देंहटाएं


  5. बहुत अच्छे भाव,
    एवँ अच्छा शब्द सँयोजन ।
    मैं कोई ज्ञानी तो नहीं, पर इतनी कोमल अभिव्यक्ति में रस्सा-कशी... यह कहीं कठोर शब्द तो नहीं ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. होठ और कपोल की रस्साकशी ...हम तो दिल और दिमाग में ही अटके पड़े रहे ..
    नया प्रयोग ..
    सुन्दर भाव ...
    सुमधुर कविता ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब लिखती है आप,
    मैंने भी कुछ लिखा है आप अपने ब्ल्प्ग में इसे जगह दे .

    मन मंजुल मैना सा ,
    भटका भागा डोरा सा ,
    कभी सनेह की गागर सा , कभी गगन के शोलो सा,
    कभी किसी पर बिछ जाता ,
    कभी किसी को तरसाता ,
    रोम रोम जब हो पुलकित ,
    धीरे से कही खिसक जाता
    मंजुल भटनागर

    उत्तर देंहटाएं