मंगलवार, 5 जून 2012

" दरख़्त यादों के ........"



एक पौधा नन्हा सा ,
यादों का उनकी,
उग आया ,
बिना बताये ,
बस चुपके से,
मन में मेरे ,
जब कभी सूखने को आता,
बरबस आंसू निकलते मेरे,
और फिर हो जाता,
वो हरा भरा,
धीरे धीरे वो,
बड़ा हो चला ,
और रोकने लगा,
हर आने वाली,
रोशनी और हवा को,
चाहा काट दूँ आज,
वो दरख़्त यादों का,
और सांस लूँ,
नई किरणों में ,
पर आज फिर, 
मुस्कुराती वो दिख गई,
झुरमुट में दरख़्त के,
और बोली हौले से ,
"आज तो पर्यावरण दिवस है न ",
एक बार फिर रह गया  ,
कटने से दरख़्त,
यादों का  |

16 टिप्‍पणियां:

  1. पर्यावरण पर मन मोहक सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति बहुत ख़ूब सर जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमेशा यूँ ही हरे - भरे रहें दरख्त यादों के भी और हमारी वसुंधरा के भी... बहुत खूबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों के दरख्तों में तो अमृत बसता है, एक बार कट कर पुनः उग आते हैं वे...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा किया....................

    यादों के दरख्त कभी काटता है कोई???

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज तो पर्यावरण दिवस है न ",
    एक बार फिर रह गए ,
    कटने से दरख़्त,
    यादों के |

    गनीमत है.....
    पर्यावरण दिवस ने बचा दिया....
    नहीं तो यादों को कहाँ टाँगते...!!
    खूबसूरत......
    बहुत खूबसूरत....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. यादों के दरख़्त सूखते नहीं .... आंसुओं का सिंचन होता ही रहता है

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन के पर्यावरण के लिये,तपते मौसम में, इस वृक्ष की छाँह भी तो चाहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  8. यादों के दरख़्त काटे नहीं कटते कितनी ही कोशिश कर लो.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बार फिर रह गए ,
    कटने से दरख़्त,
    यादों के |
    बहुत बढिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक बार फिर रह गया ,
    कटने से दरख़्त,
    यादों का

    चलो इसी बहाने भावनाएं कुछ दिन और प्रदूषित होने से बची रहेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. simply beautiful...
    we often fail to forget what we feel like forgetting most..

    उत्तर देंहटाएं
  12. हर रोज मनता रहे -पर्यावरण दिवस ...

    उत्तर देंहटाएं