सोमवार, 29 अप्रैल 2013

" काश !............."


काश ! 

बस यूँ ही ,
वो मुस्करा दें ,
मेहरबानी  उनकी । 

पलकें उठा ,
मिला ले नज़र,
किस्मत हमारी । 

इतना हँसे कि,
गाल अवतल हो जाएँ ,
सुब्हान-अल्लाह । 

लब खोल दें ,
दो बोल बोल दें ,
ये जहां महक जाये । 

दो कदम ,
सफ़र ,
ज़िन्दगी के ,

इस 'दो' में ,
'एक' उनके हों ,
खुशनुमा सफ़र हो जाए ।

 ( 'अवतल गाल ' से अभिप्राय  'dimpled cheeks'   का है । 

13 टिप्‍पणियां:

  1. waah .....chhote-chhote shabd .....badi -badi khwahishen.....aamin .....bahut accha likha hai .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. badhiyan panktiyan:

    "इतना हँसे कि,
    गाल अवतल हो जाएँ "
    Kavita acchi lagi.

    -Abhijit (Reflections)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...
    बहुत सुन्दर......
    "आधा तुम्हारा ,आधा मेरा
    पूरा हमारा हो "....(निशा महाराणा जी.)

    आपकी कलम से कविता ज़रा कम निकलती है...मगर जो निकली तो क्या खूब निकली...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया ...सम्बन्ध में पूर्णता आ जाएगी तब

    उत्तर देंहटाएं
  5. कम शब्दों में पूरे एहसास ..क्या बात है .

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है है जी ......वाह जी बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. भौतिकी का प्रैक्टिकल पास कर लिये। बधाई!

    उत्तर देंहटाएं