रविवार, 21 अप्रैल 2013

"बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना ......."



इसी वर्ष फरवरी माह की तीन तारीख को हमारे विवाह को हुए पचीस वर्ष हो गए थे । जैसा कि लोग कहते हैं पचीस साल विवाह के, यह तो बहुत बड़ी बात है ,गोया मियाँ बीबी नहीं शेर और बकरी हैं ,जो रह रहे हैं पिछले पचीस सालो से एक साथ और बकरी अभी भी जीवित है । खैर लोगों को अपेक्षा थी कि हम लोग कोई बड़ा फंक्शन करेंगे । अमूमन लोग करते भी हैं । हम लोग भी थोड़ा बहुत उत्सव मनाना चाहते थे और दोस्तों को उसमें शामिल भी करना चाहते थे परन्तु आई.आई.टी.वालों ने बच्चों को छुट्टी नहीं दी और उसी दिन दोनों की क्विज़ रख दी ( आई आई टी में शिक्षक पढ़ाते कम ,पूछते ज्यादा है । अगर वहां पी .टी .एम .होती तब निवेदिता वहां के शिक्षकों की क्लास जरूर ले लेती )। जब वे दोनों आने में असमर्थ तब बगैर बच्चों के उत्सव कैसा । खैर हम लोगों ने कोई भी फंक्शन नहीं तय किया और सोचा कि शाम को कहीं बाहर (अच्छा) खाना खा लेंगे । 

इसी बीच हमारे घर के पास रहने वाले श्री त्रयम्बक तिवारी जी ( लखनऊ में एक बहुत पुराना कोचिंग संस्थान "तिवारी ट्यूटोरियल्स" के संस्थापक और संचालक )  के यहाँ से उनके छोटे भाई के विवाह समारोह का निमंत्रण आया । उस समारोह की तिथि भी तीन फरवरी ही थी । जब वो निमंत्रण ले कर आये तब निवेदिता ने उन्हें बताया कि उसी तिथि को हम लोगों का भी विवाह हुआ था और अबकी तो पचीसवीं वर्षगाँठ है हमारी । खैर बात आई गई हो गई और त्रयम्बक जी ने काफी अनुरोध किया उनके समारोह में शामिल होने के लिए ।

तीन फरवरी की शाम को हम लोगों ने तय किया ,कहीं बाहर चलने के बजाय, चलो उन्ही के यहाँ शादी में शामिल हो लेते हैं । उत्सव का माहौल होगा अच्छा लगेगा । बच्चे तो आये नहीं है और निवेदिता ऐसे मौकों पर बच्चों को बहुत मिस भी करती हैं । 

हम लोग त्रयम्बक जी के यहाँ शादी में पहुंचे । वहां उनके छोटे भाई मयंक का विवाह धूमधाम से शेफाली के साथ संपन्न हुआ । इसी बीच उनके यहाँ आयोजित नाच गाने के कार्यक्रम के मंच से 'डी जे' ने उदघोषणा की कि यहाँ आये हुए मेहमानों में से कृपया अमित और निवेदिता मंच पर आ जाएँ और सभी को उसने बता दिया कि आज इनकी शादी की 'रजत जयंती' है । मंच पर पहुंचे तो देखा त्रयम्बक जी के परिवार के लोग हाथों में फूल माला लिए हम लोगों के स्वागत में खड़े थे । उन्होंने वर मालाओं का भी इंतजाम कर रखा था । हम लोगों के लिए तो यह बहुत बड़ा सरप्राइज़ था । सच बताएं तो लाज भी आ रही थी ,अचानक से पूरी महफ़िल के लिए हम लोग आकर्षण का केंद्र जो बन गए थे । फिर तो फोटो शूट भी शुरू हो गया । यह फोटो आज ही हम लोगों को त्रयम्बक जी दे कर गए तभी सोचा कुछ लिख दूं संस्मरण के लिए । 


अब जो केवल फोटो देखेगा ,सोचेगा इतना बड़ा फंक्शन कर लिया और हमें बुलाया भी नहीं । खैर जो भी यह सरप्राइज़ तो जीवन भर के लिए एक धरोहर हो गया ।  
                                                             "गोरा तो नहीं हूँ परन्तु लाज से मैं भी लाल हो जाता हूँ कभी कभी "

                                            चित्र में बाएं से : अमरीषा ,आँचल ,निवेदिता ,मयंक-शेफाली ,मै ,यतीन्द्र और त्रयम्बक जी 

'मयंक-शेफाली' को उनके विवाहित जीवन के लिए तमाम शुभकामनायें और ईश्वर करे जब वो अपनी पचीसवीं सालगिरह मनाएं तब एक बार फिर हम लोग उनके साथ अपनी पचासवीं सालगिरह में शामिल हों । 



                                                                              विवाह का चित्र (०३.०२.१९८८)

31 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह.... एक फोन भर कर देते आप, हम भी पहुंच जाते :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. जे बात ... ;)


    मज़ा आ गया ... त्रयम्बक जी और उनके पूरे परिवार को मेरी ओर से भी हार्दिक आभार कह दीजिएगा ... सच मे उन्होने हम सब को यह यादगार पल दे दिये अपने स्नेह मे लपेट कर ... जय हो !


    एक बार फिर मुबारकबाद ले लीजिये ... तहे दिल से !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर तस्वीरें हैं.....
    बहुत प्यारा लगा होगा तिवारी जी का सरप्राइज़....
    and yes you are blushing :-)
    i like it !!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बमबम तुम्हारे फोटू से ऐसा लग रहा है की बकरा फिर से कट गया ,अरे भाई पिछली बार कट के बच गया था न ,सो ख़ुशी ख़ुशी कटो न .

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो ई सोच रहे हैं के अभी एतना लजाए हैं तो 25 बरस पहिले केतना लजाए होगें। हा हा हा रजत जयंती की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. arre wah......... kya baat hai..:)
    aap to sach me bade kanjoos type nikle :)
    khair aapke dost ne itne bade lamhe ko aur yaadgaar bana diya
    aapdono ko bahut bahut badhai aur shubhkamnayen...:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह , दूल्हा दुल्हन को पाणिग्रहण के रजत जयंती पर ढेरो बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  8. शादी की ’क्वार्टर’ सेंचुरी मुबारक हो।

    कहीं बाहर (अच्छा) खाना खा लेंगे

    इस पद में क्या कवि यह कहना चाहता है कि वह घर में खराब खाना खाता है? अगर यह सच है तो यह पच्चीस वर्षो में अर्जित साहस का प्रतीक है या कवि यह कहना चाहता है कि जो जायका ब्लॉग पर रहता है वह वास्तव में होता नहीं है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'पचीस' तो हमने काट लिए ठीक ठाक । बाकी बचे जरूर चौपट करा देंगे आप ,यह पूछ कर ।

      हटाएं
  9. वाह ऐसे मौके अगर यकायक आ जायें तो जीवन के रंग निखर उठते हैं.. बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच ही बढ़िया सरप्राईज़ रहा .... खूबसूरत तस्वीरें और यादगार लम्हे .... पुन: एक बार बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. Bol Bam-Bam!! Kya baat hai Amit Bahoot Khoob ... Dher Saari Badhaiyan!! Good Luck for the Goldel Jubalee.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर चित्र हैं ....बधाई आप दोनों को

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बहुत बधाई सर!
    बहुत अच्छा लगा पढ़ कर।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप दोनों को विवाह की रजत जयंती पर बहुत - बहुत बधाई और शुभकामनाएं ...सभी तस्वीरें बहुत सुन्दर हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  15. ओह हो तो ये बात थी. तभी मैं कहूँ कि फ़ोन पर गज़ब दोनों की आवाज ख़ुशी से खनक रही थी:).बहुत बहुत बधाई एक बार फिर. पार्टी तो हम ले ही लेंगे.:)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ ! आपका तो फोन भी आया था ,ठीक उसी समय ,खूब आतिशबाजी हो रही थी और मैं शिखा ( निवेदिता ) से यही कह रहा था कि शिखा (आप) सोच रही होंगी ,देखो दोनों पार्टी कह रहे हैं ,खूब धूम धडाका हो रहा है और हमें खबर तक नहीं की । यह पोस्ट लिख कर मैंने सब बातें साफ़ कर दी इसीलिए । रही बात पार्टी की ,वो तो बिना आपको बुलाये हो ही नहीं सकती , और आपको तो आना ही होगा ।

      हटाएं
  16. लोग नकारे हो भले हो गए हों मगर समाज में अभी भी कद्रदान लोग हैं -इस पण्डित का भोज रह गया है ध्यान रखियेगा -परिणय पच्चीसी पर ब्राह्मण भोज बनता है !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस मामले में तो हम लोग 'लकी' हैं । कद्रदान मिल ही जाते हैं । रही बात भोज की तो ,जब आप आ जाएँ हो जाएगा भोज ।

      हटाएं
  17. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 24/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  18. भई जान कर ख़ुशी हुई कि शादी की 25वीं सालगिरह यादगार हो गयी

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. बधाई एवं शुभकामनायें ...!!ये तो बहुत सुन्दर भावपूर्ण सरप्राइज़ रहा ..!!इसके साथ आपको अपनी शादी के दिन की भी तस्वीर लगाना चाहिए थी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बधाई एवं शुभकामनायें ...!!ये तो बहुत भावपूर्ण सरप्राइज़ रहा |

    उत्तर देंहटाएं
  22. ऐसे ही जिदंगी के खुशनुमा पल हमेशा याद करना मन को हमेशा बहुत अच्छा लगता है ...
    बहुत बढ़िया संस्मरण,,,
    रजत जयंती की हार्दिक शुभकामनयें..

    उत्तर देंहटाएं
  23. २५ तो बहुत बड़ी उपलब्धि है..हजारों शुभकामनायें, आप ऐसे ही शर्म से लाल होते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप दोनों को विवाह की रजत जयंती पर बहुत बहुत बधाई!
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    उत्तर देंहटाएं