सोमवार, 1 अप्रैल 2013

" विद्दोत्तमा ,लौट आओ फिर एक बार ......"


मैं काट रहा हूँ ,
वह शाख ,
जिस पर बैठा हूँ ,
कह उठता हूँ ,
ऊंट को उट्र उट्र  ,
यूँ  ही अक्सर ,
तमाम बेवकूफियां ,
कर गुजरता हूँ ,
इस उम्मीद में ,
कि मिलें तुम्हारी ,
झिड़कियां ,
शायद लिपटी ,
प्यार और दुलार में ,
और रच डालूं मैं ,
एक ग्रन्थ और ,
प्रणय का ,
अब आ भी जाओ ,
तुम फिर एक बार ,
शाख टूटने से पहले ,
मेरी ज़िन्दगी में ,
बन 'विद्दोत्तमा 
बस एक बार ।

                                      "मूर्ख दिवस पर एक अदद 'विद्दोत्तमा' की तलाश में ........"

14 टिप्‍पणियां:

  1. झूठ मत बोलिए -एक तो आपको भी मिल गयी हैं ! बस एक ही काफी हैं ज्यादा नहीं संभलती-मेरा भोगा यथार्थ है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह कविता बताती है की विद्योत्तमा जिंदगी में साथ ही है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये विद्योत्तमा आपकी सैलरी स्लिप पे फ़िदा है...आपकी बेवकूफियों से इसे क्या लेना-देना...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये आज की विद्दोतमा आपसे भी बड़ी आड़ी ले कर आ गयी तो ..?

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो दर्पण देख लेते हैं, मूर्ख मिल जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. विद्दोतमा के बिना ऐसा सृजन संभव कहाँ... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर व्यक्ति के अन्दर ही है एक अदद कालीदास और एक विद्दोतमा. बस झाँक कर देखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे किसकी आरज़ू कर रहे हैं???
    ख़याल रहे माँ काली की कृपा के चक्कर में कहीं कोई और रौद्र रूप न दिखा जाए..
    :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक तो साथ ही हैं ..... अब ज्यादा की मांग कर सच ही मूर्खता तो नहीं दर्शा रहे ?

    उत्तर देंहटाएं