शनिवार, 9 मार्च 2013

" खरोंचे ................."


खरोंचे आ गईं ,
कुछ ,
जिस्म पे मेरे,
ललक में ,
खुशबू पाने की ।

खुशबूज़दा ,
कुछ यूँ हुए ,
कि काँटों को ,
ही मसलते रहे ।

लहू जब ,
रिसने लगा ,
समझे यही दस्तूर है ।

खरोंच नहीं ,
ये निशाँ है,
मोहब्बत के उनकी ,
जो निभाने में दस्तूर,
हमने पाएं हैं ।

14 टिप्‍पणियां:

  1. वो नहीं सुनता उसे जल जाना होता हैं। प्यार दीवाना होता हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात भाई .... बहुत चोट खाए लगते हैं हुज़ूर |

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी कभी पता ही नहीं चलता है कि काँटों से खेल रहे हैं...गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति,आभार.महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं

  5. दिनांक 11/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक और सुंदर रचना .....
    आप भी पधारो स्वागत है ...
    http://pankajkrsah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. दर्द को बहुत संवेदना के साथ प्रस्तुत किया आपने ..मगर दर्द किसी भी सूरत में हो दर्द खूबसूरत नहीं हो सकता ...

    उत्तर देंहटाएं