मंगलवार, 29 मई 2012

"एक पगडण्डी नई ............"



राह हो, न हो, 
रहगुजर हो, न हो,
साथ हो, न हो , 
साथी हो, न हो ,
साया हो , न हो,
रौशनी हो, न हो,
सितारे हो ,न हो,
पंछी बोले , न बोले ,
नदी थमे या रुके पवन,
पौ फटे , न फटे,
पग उठ जाते हैं अब ,
चल पड़ने को रोज़,
तलाशने एक ,
पगडण्डी नई,
.
.
.
           "उम्र की तमाम पतली पतली पगडंडियाँ आपस में मिलने को बेताब हैं और मन है कि तलाशता कोई एक पगडण्डी नई |"


20 टिप्‍पणियां:

  1. बावरा है मन....................
    थामे नहीं थमता.................

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभावों में भाव खो न जायें..बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़ते हैं कदम
    चलती है जिंदगी
    तलाश लेती है
    पगडण्डी नई...
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. सुंदर ....उर्जा देती पंक्तियाँ ...
      शुभकामनायें

      हटाएं
  5. क्या बात है। एकदम कोलम्बस बन गये। :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. अज्ञात की पुकार ही नई पगडण्डी पर लिए चलता है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच हैं ...ये जिंदगी ऐसी ही पगडंडी पर ही चलती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत एहसास बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ हो न हो हमें चलते ही जाना है । सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये तालाश हमेशा जारी रहनी चाहिए..
    सुंदर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं