मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

" गुनगुने आंसू ...."


बर्फ से गाल पे,
लुढकी दो बूंदे,
आंसुओं की,
गुनगुनी सी |
बन गई लकीर,
नमक की |
लोग कह उठे,
चेहरे पे उसके,
तो नमक है |
मन की भाप,
कितनी उठी होगी,
कितनी सूखी होगी,
तब शायद,
बना होगा,
नमक चेहरे पे |
गुनगुने आंसू ,
गर जो पा जाए,
हथेलियाँ,
सूखने से पहले ,
गुनगुना उठते हैं,
कुछ बोल मोहब्बत के |

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर..
    नाज़ुक से भाव...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. चेहरे पे नमक ...लावण्य को इतनी सादगी और सुंदरता से व्यक्त किया आपने ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. गुनगुने आंसू हथेलियों का स्पर्श पाकर गुनगुना उठे.... वाह.... लाज़वाब

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुनगुने आंसू ,
    गर जो पा जाए,
    हथेलियाँ,
    सूखने से पहले ,
    गुनगुना उठते हैं,
    कुछ बोल मोहब्बत के |... वरना खारे खारे ही होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुपम भाव संयोजन लिए ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब गज़ब गज़ब …………क्या भाव भरे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस भावपूर्ण रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर.
    गहन भावाभिव्यक्ति
    बेहतरीन रचना...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. गुनगुने आंसू गुनगुना उठते हैं ....
    हथेलिया पाकर ....

    सूखने से पहले ...

    वर्ना पत्थर हो जाते हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. गुनगुने आंसू से बुनी मुहब्बत की कहानी ... बहुत ही लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाज़वाब...बहूत ही उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतनी खूबसूरत परिभाषा आंसुओं की कि बस पलकों पर ही ठहरे रहे !
    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं