मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

" इतना ही तो कहा था ....."



इतना ही तो कहा था,
थोड़ा काजल लगा लेना,
पलकें तितली हो जाती |
इतना ही तो कहा था,
बिंदी बड़ी लगाना,
चाँद पे चाँद उग आता |
इतना ही तो कहा था,
होठों पे लाली मत लगाना,
रंग का उतरना अच्छा नहीं होता |
इतना ही तो कहा था,
साड़ी गुलाबी पहनना ,
गुलाब पूरा गुलाबी हो जाता |
इतना ही तो कहा था,
केश गीले ही बाँध लेना,
टपकती बूंदे उर-माला बन जाती |
इतना ही तो कहा था,
बस मेरी बाट जोहना,
अधीरता तुम्हारी,
पागल करती मुझे |
इतना ही तो कहा था,
आलिंगन ऐसा करना,
सदियों से व्याकुल हो जैसे कोई |
पर तुमने ऐसा कुछ न किया ।
भय था तुम्हे ,
तुम्हारे प्यार के आगोश में ,
कहीं मै दम न तोड़ देता  |
हाँ ! तुम्हारा शक ठीक था,
ज़िन्दगी में सब कुछ मिला,
प्यार के सिवा |
इतना जो प्यार मिलता,
मर ही तो जाता मै शायद ..............!  

36 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!वाह!!
    लाजवाब...
    मोहब्ब्त से भरपूर रचना..
    खूबसूरत भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम्म.. बेलेंस जरुरी है न ..बहुत खूबसूरत बयानगी .

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतना ही तो कहा था
    इतनी भापूर्ण रचना मत लिखना
    टिप्पणीकारों के पसीने छूट जायेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही भावपूर्ण रचना है...
    बहुत ही गहराई है इनमे..
    जादा प्यार मिले तो भी संभाला नहीं जा सकता ...
    बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सर्वत्र वर्ज्यते...लेकिन लम्बी ज़िन्दगी से बेहतर है...कुछ क्षणों का अपरिमित...प्यार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहना है....कहना है...

    अब इससे ज्यादा क्या चाहिए...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज आप हतप्रभ कर गये..यह भाव निशब्द कर गया..आपको समर्पित..

    पीर बहती थी अकेली, बीच तुम क्यों आ गये,
    सूर्य का तपना लिखा था, मेघ बन क्यों छा गये,
    पास आओ और अपने प्रेम को विधिवत कहो,
    बात क्या ऐसी घटी, जो राह में सकुचा गये।

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या बात! क्या बात! क्या बात!............

    उत्तर देंहटाएं
  9. इतना जो प्यार मिलता,
    मर ही तो जाता मै शायद .............्चाहत मेरी बडी ना थी मगर किस्मत से लडी ना थी.........बेहद शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रेम का रूप, सुकूनदायी भी होता है और मन को व्यथित करने वाला भी......
    गहरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. टिप्पणी के लिए शब्द नहीं हैं... इसके हर शब्द में प्रेम भरा है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या कहूँ अमित ..बहुत कुछ है कहने को पर शब्द नहीं ......
    लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन इतने में ही जाने क्या-क्या कह गए आप :) बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. इतना ही तो कहा था,
    केश गीले ही बाँध लेना,
    टपकती बूंदे उर-माला बन जाती |

    ...बहुत खूब ! बहुत सुंदर भावमयी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपके इस उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सौंदर्य का इतना प्रेमपूर्ण वर्णन ....बेहद खूबसूरत और मर्यादित. बहुत अच्छी कविता अमितजी. बधाई.

    -शैफाली

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर.....
    ऐसी रचनाएं पुरानी नहीं होतीं...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर रचना ...
    बधाई एवं शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. :))) ..... बहुत प्यार के साथ लिखी बहुत प्यारी पंक्तियाँ ......
    ये प्यार सदा ऐसा ही बना रहे ...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. यहां तो मामला पूरा वेलेंटाइन हो गया। :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. itna hi to kaha tha ...pyar bhi dard bhi ..is rachna mei dard to hai lekin starting mei aapne jo upmaayein di hain palkein titli ho jaati ..chand pe chaand ug aata ...gulab gulabi ho jata tapakti boondo se ur mala ka banna bahut hi manohaari drishay ka varnan kiya ..bemisal prastuti :-)

    उत्तर देंहटाएं