शुक्रवार, 27 मई 2011

"चाय के बहाने"

                    "उनको यह शिकायत है हम कुछ नहीं कहते ,
                    अपनी तो यह आदत है हम कुछ नहीं कहते |"
               
                 चाय कैसी लगी ,पूछा उन्होंने | अरे चाय ख़त्म भी हो गई ,मैंने खाली कप को देखते हुए कहा | तुम्हारी यही आदत खराब है ,कितने भी मन से कुछ भी बना लो ,मगर तारीफ़ के दो बोल कभी नहीं बोलते ,कप उठाते हुए बोली वें | देखो अगर चाय तुमने दिल से बनाई है, और बनाते समय तुम्हारे ख्यालों में मै था,फिर तो चाय को उम्दा होना ही था | और चाय कैसी है ,यह सवाल तो तब उठता है जब चाय अकेले में पी जाय | जब तुम सामने हो तो चाय में तुम्हारा ही अक्स नज़र आता है , और तब चाय भी तुम्ही में घुली घुली सी लगती है |   
                 इतना ही काफी था ,उनके लिए एक और अच्छे दिन की शुरुआत करने को |
                 कहते हैं , सवेरे सवेरे की पहली चाय आपके पूरे दिन के मूड को तय करती है ,इसलिए दिन की पहली चाय ख़ास अपनों के साथ होनी चाहिए |

33 टिप्‍पणियां:

  1. चाय की चुस्की के समय आपकी मनःस्थिति, दिन भर की स्थिति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अमित जी बहुत अच्छा ख्याल हे सुबह की चाये....

    कभी आप बनाईये और भाभी जी को पिलाईये .{pavan gurjar )



    प्रिये तुम हमसे दूर न जाओ यू झटक के दमन न छुडाओ !

    बहुत हुआ सताना देर न करो प्रिये अब तो गुस्सा भूल जाओ

    उत्तर देंहटाएं
  3. पवन गुर्जर जी की टिप्पणी से अक्षरश: सहमत हूँ......प्रतीक्षा कर रही हूँ इसके कार्यान्वित होने की :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. :)..
    और ख़ास अपना चाय ही नहीं पीता हो तो ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ों ने सब कुछ कह दिया मैं सिर्फ इतना कहूँगा मज़ा आया पढ़ कर.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये खूबसूरत बहाने पुराने हुए , बनाइये चाय ... निवेदिता जी को भी ख्यालों में खोने दीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  7. वो क्या करे जो खुद ही चाय ना पीता हो

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (28.05.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब! अच्छा नुस्खा बताया पत्नी को खुश करने का..

    उत्तर देंहटाएं
  10. और तब चाय भी तुम्ही में घुली घुली सी लगती है |
    वाह.....फिर भी आप कहते हैं...

    "अपनी तो यह आदत है हम कुछ नहीं कहते |"

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर यही तो है कुछ सुकून के पल !

    उत्तर देंहटाएं
  12. absolutely true !!!
    morning tea is like an elixir, it has the power to twist the coming hours.

    उत्तर देंहटाएं
  13. उनको यह शिकायत है हम कुछ नहीं कहते ,
    अपनी तो यह आदत है हम कुछ नहीं कहते |"
    baat kuchh apni hi lagi yahan ,maja aa gaya padhkar .

    उत्तर देंहटाएं
  14. चाय तो हम खुद ही बना के पीते है वह भी अकेले नहीं तो दो कप बनानी पड़ेगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. amit ji
    waqai maja aa gaya aapke chay ke naam par mujhe bhi chay ki yaad aagai .abhi jhat se jakar chay banati hun .par shri maan ji to baahar gaye hue hain fir akele hi piungi .chay baht piti hun na ---)
    aabhar
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. उम्मीद है खुशनुमा मूड की बयार कायम होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. वो क्या करे जो खुद ही चाय ना पीता हो!मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  18. http://kushkikritiyan.blogspot.com/

    MNNIT se B TECH, GOLAGANJ LKO me janm.

    mere bete se do baaten milti hain.
    uske blog par jarur kuchh salaah den

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुबह की चाय
    बस अपनों के साथ .... !
    ख़याल में ताज़गी तो है !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. subah ki chay wakai achchi chay poorer din bhar taaja rakhataa hai.phir uske saath kisi ka khyaal wah kya baat hai.badhaa sweekaren.


    please visit my blog and feel free to comment.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है ,.
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूब ... सुबह की पहली चाय और उनकी बातें ...
    कमाल का लिखा है ... बस यूँ ही ....

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत अच्छा लिखा है
    www.haikudarpan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं