शुक्रवार, 20 मई 2011

"ज़ख्म" या "स्मृति चिन्ह"

क्यूँ,
तुमने,
चुराके अश्क,
मोहब्बत की आँखों से,
सजा दिए,
सितारे फलक पे |

गर इतना ही चाहा था,
दिल से मुझे,
रहते  खामोश ही,
तुम,
मगर, 
कभी ठहरी साँसों को,
जुम्बिश तो दी होती | 

प्यार का समंदर,
क्यूँ दिखाया मुझे,
और, 
छोड़ दिए  निशान,
इतने गहरे,
सीने पे |

खुदा जाने,
अब, 
मुलाकात हो,
ना हो |

ज़ख्म तो भर जायेंगे,
निशानों के सीने पे, 
पर अक्स उभरेगा,
उन ज़ख्मों का,
तुम्हारे भी,
सीने पे |

खुदा,
सलामत रखे,
तुम्हे,
और,
तुम्हारी आशनाई को |

मै,
बस,
कुरेदता रहूँगा,
उन ज़ख्मों को,
(समझ 'स्मृति चिन्ह') 
तुम्हारे ही,
तबस्सुम से | 

26 टिप्‍पणियां:

  1. खुदा,
    सलामत रखे,
    तुम्हे,
    और,
    तुम्हारी आशनाई को |
    bahut hi bhawatmak

    उत्तर देंहटाएं
  2. How beautifully the feelings are expressed !...You made me emotional Amit ji.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आन्तरिक भावों के सहज प्रवाहमय सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ज़ख्म तो भर जायेंगे,
    निशानों के सीने पे,
    पर अक्स उभरेगा,
    उन ज़ख्मों का,
    तुम्हारे भी,
    सीने पे |

    ..बहुत खूब! कोमल अहसासों को शब्दों में किस खूबसूरती से पिरोया है..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. सामने समुन्दर, प्यास इन्तिहा,
    न हमने न उनने कुछ कहा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़ख्म तो भर जायेंगे,
    निशानों के सीने पे,
    पर अक्स उभरेगा,
    उन ज़ख्मों का,
    तुम्हारे भी,
    सीने पे |
    खुदा,
    सलामत रखे,
    तुम्हे,
    और,
    तुम्हारी आशनाई को |

    गहरे भाव लिए एक सुन्दर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुदा,
    सलामत रखे,
    तुम्हे,
    और,
    तुम्हारी आशनाई को -- ज़ख़्म और स्मृतिचिन्ह दोनो ही मन को भावुक कर देते है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज़ख्म तो भर जायेंगे,
    निशानों के सीने पे,
    पर अक्स उभरेगा,
    उन ज़ख्मों का,
    तुम्हारे भी,
    सीने पे |

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब लिखा है आपने दिल के दर्द को ...दर्द कि भाषा बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर लिखा है अपने इस मैं कमी निकलना मेरे बस की बात नहीं है क्यों की मैं तो खुद १ नया ब्लोगर हु
    बहुत दिनों से मैं ब्लॉग पे आया हु और फिर इसका मुझे खामियाजा भी भुगतना पड़ा क्यों की जब मैं खुद किसी के ब्लॉग पे नहीं गया तो दुसरे बंधू क्यों आयें गे इस के लिए मैं आप सब भाइयो और बहनों से माफ़ी मागता हु मेरे नहीं आने की भी १ वजह ये रही थी की ३१ मार्च के कुछ काम में में व्यस्त होने की वजह से नहीं आ पाया
    पर मैने अपने ब्लॉग पे बहुत सायरी पोस्ट पे पहले ही कर दी थी लेकिन आप भाइयो का सहयोग नहीं मिल पाने की वजह से मैं थोरा दुखी जरुर हुआ हु
    धन्यवाद्
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्यूँ,
    तुमने,
    चुराके अश्क,
    मोहब्बत की आँखों से,

    सजा दिए,
    सितारे फलक पे |
    गर इतना ही चाहा था,
    दिल से मुझे,
    रहते खामोश ही,
    तुम,
    मगर,
    कभी ठहरी साँसों को,
    जुम्बिश तो दी होती |


    सुन्दर अभिव्यक्ति ...!

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रियवर अमित जी
    सादर अभिवादन !

    बहुत तबीअत से कलम चलाते हैं आप भी ! :)
    मै,
    बस,
    कुरेदता रहूंगा,
    उन ज़ख़्मों को,
    समझ 'स्मृति चिन्ह'
    तुम्हारे ही,
    तबस्सुम से …


    बहुत ख़ूब कहा है आपने !
    महबूब के दिए हुए ज़ख़्म स्मृति चिन्ह !
    वाह वाऽऽह !
    मुबारकबाद जनाब !

    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  14. जितनी बार कुरेदा जायेगा ..कुछ नायब ही निकलेगा ..बेहद खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  15. महबूब के दिए हुए ज़ख़्म स्मृति चिन्ह !.बेहद खुबसूरत.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. खुदा,
    सलामत रखे,
    तुम्हे,
    और,
    तुम्हारी आशनाई को |
    kya sunder bhav hain

    zakhmon ko duredna bhi prem uffffff prem ki intihan
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं