रविवार, 2 फ़रवरी 2014

" वो सात भैंसे ......."


अभी अभी मैने अपनी श्रीमती जी से पूछा कि अगर नाश्ते में देर हो तो मैं एक पोस्ट लिख लूँ | इस पर उन्होने पूछा क्या हो गया , अरे वो मंत्री जी क़ी भैंसे गुम हो गईं हैं न उसी पर कुछ लिखना चाह रहा था , मैने बताया | पहले आपके दिमाग में गोबर भरा रहता था , अब भैंसे आ गई , अब तो भगवान ही मालिक है आपका , श्रीमती जी मन ही मन बोली होंगी शर्तिया | 

पता चला है कि मंत्री जी क़ी सात भैंसे एकदम 'काली चिट्टी' और 'हट्टी कट्टी' बीती रात घर से गायब हो गईं | अब पता नहीं अपने आप वो सब भाग गईं या कोई उन्हे भगा ले गया | सारा पुलिस महकमा और मीडिया हलकान परेशन घूम रहा है | ज्यादातर लोगों का मानना है कि 'उनकी' भैसों को कोई भगा कर नहीं ले जा सकता , यह दुस्साहस किसी के बस का नहीं ,वो भैंसे खुद ही खूँटा तुड़ाकर भाग गई होंगी | 

अब चूंकि यह भैसे किसी एक राजनैतिक दल के मंत्री जी क़ी हैं तो लोग कयास लगा रहे हैं कि ऐसा न हो उन भैंसों का मन दल बदल करने का हो गया हो | आईपीएल (इंडियन पॉलिटीशियन लीग)-२०१४ सन्निकट हैं सो भैंसे भी बेहतर विकल्प क़ी तलाश में दायें बायें पगुराना चाह रही होंगी , आखिर बिन्नी को भी दूध पिलाया होगा इनकी बिरादरी ने कभी ,सो असर तो आना ही है न बिन्नी का उन पर |

वह 'सातों' किसी दूसरी राजनैतिक पार्टी में भी शामिल हो सकती हैं | उन पर दल बदल कानून भी नहीं लगेगा | सुना है मोदी भी फिराक़ में हैं , चाय के लिये दूध सरप्लस हो जायेगा | बसपा इन्हें रंग रोगन कर 'हाथी' बना सकती है | कांग्रेस इन्हे ले सकती है राहुल बाबा के लिये ,गाँवो को करीब से समझने के लिये , केजरी भी मौके की ताड़ में है कि कह सके , आप क़ी भैंसे 'आप' क़ी हो गईं | 


अभी अभी पता चला है मंत्री जी ने विग्यापन छपवाया है कि " प्रिय भैंसे ,तुम सब जहां कहीं भी हो ,वापस घर आ जाओ ,तुम्हे कोई कुछ भी नहीं कहेगा | तुम लोगों के बगैर घर सूना है | तुम्हे हम बिना किसी नार्को टेस्ट  / वर्जिनिटी टेस्ट के ही स्वीकार कर लेंगे " | वैसे उन्होने दूसरे दलों द्वारा किसी बड़े षड्यंत्र रचे जाने का भी आरोप लगाया है |  

यह भी खबर है कि अमेरिकन मैगज़ीन 'टाइम' ने उन सात भैसों का फोटो अपने कवर पेज पर छापने का निर्णय लिया है ,वह भी निर्वस्त्र | 

यह पोस्ट लिखे जाने तक उन सातों का कोई सुराग न मिल पाने की खबर है |  

11 टिप्‍पणियां:

  1. ओह अब तो ये डर सताने लगा है कि कहीं आईएसआई वाले जो इसी ताक में बैठे हैं उन्हें अपनी योजना में न मिला लें :) ये भी हो सकता है कि वे हाथा सायकल से त्रस्त होकर खुद की एक "भैंस की पूंछ" नाम की पार्टी बना लें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गजब,आप व्यंग्यकार भी अच्छे बन सकते हैं।

    मुझसे सम्पर्क करें :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. तबेले से निकलते ही कितनी राहें खुल गयीं उनके लिए ..... रोचक पोस्ट :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई नई पार्टी अपना चुनाव चिह्न भैंस रखना चाहती होगी इसलिये खास आदमी की ही सात भैंस चुरायी गई होंगी

    उत्तर देंहटाएं

  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन टेलीमार्केटिंग का ब्लैक-होल - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. दो बैलों की आत्मकथा की तरह एक पूरा उपन्यास बनता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. :):) सबके अपने अपने दल .... भैंस क्यों पीछे रहें .

    उत्तर देंहटाएं
  8. चुपचाप पगुराती रहें भले ,मौका ताड़ती हैं भैंसें !

    उत्तर देंहटाएं