रविवार, 12 मई 2013

मेरे हर शब्द की प्रतिध्वनि में तुम हो ............"माँ "


17 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (12-05-2013) के चर्चा मंच 1242 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच में माँ ही प्रतिध्वनित होती है हमारे हर शब्द में

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूरे पृष्ठ में 'माँ' की प्रतिध्वनि समा गई है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. माँ का मतलब अवर्णनीय तरीके से प्रस्तुत किया है आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन के माँ दिवस विशेषांक माँ संवेदना है - वन्दे-मातरम् - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका कविता समुच्चय भावपूर्ण और अनुभव से भरा है। कोमल भावों को भी शब्दों का प्रकर आश्रय चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर रचना ...मातृत्व दिवस की बधाई 

    उत्तर देंहटाएं
  8. नमस्कार !
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (13-05-2013) के माँ के लिए गुज़ारिश :चर्चा मंच 1243 पर ,अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  9. कण-कण में माँ समाई ...
    तभी तो बन श्रद्धा लेखनी में उतर आई है
    अनुपम भाव संयोजन

    उत्तर देंहटाएं
  10. अमित जी! क्या कहें..... निःशब्द हैं हम...
    पूरा जीवन-चक्र आँखों के आगे घूम गया... जिसकी धुरी है माँ...~बहुत सुंदर लिखा है!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत प्यारी पोस्ट.....
    जाने कैसे देर हुई....आज अखबार में इसका ज़िक्र देखा तो लगा हमारी उपस्थिति तो यहाँ दर्ज़ ही नहीं है....
    बच्चों की माँ को शुभकामनाएं दीजियेगा.
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं