मंगलवार, 23 अक्तूबर 2012

" कच्ची रसीद........."


तुम,
'हाँ' नहीं कहते ,
यह सच है ,
'ना' भी नहीं कहते , 
यह और भी सच है ,
लबों से बोलकर ,
पक्की रसीद न दो न सही ,
आँखों ही आँखों में ,
कच्ची रसीद ही जारी कर दो |

गर हुआ मिलना कभी ,
दुनिया के किसी मोड़ पर ,
रसीद दिखा तुम्हें ,
अपनी चाहत रसीद कर दूँगा |
अपनी चाहत वसूल कर लूँगा |

17 टिप्‍पणियां:

  1. हम्म्म्म.......
    रसीद की कीमत तो है...


    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. Rasid ka yah naya prayog pahali baar dekha,abhi tak to 'jhapad rasid' ki aavaajen suni thi!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. " रसीद करना " अर्थात इस प्रकार कुछ देना किसी को , कि उसकी पावती भी सुनिश्चित हो जाए | झापड़ रसीद करने से अभिप्राय है कि गाल पर निशाँ भी पड़ जाए ताकि सनद रहे और गाहे बगाहे काम आये | प्यार और चाहत रसीद करने का अर्थ हुआ कि इस कदर चाहत दिखाई कि जिसे चाहा वह भी आखिर न न करते प्यार कर ही बैठा |

      हटाएं
  3. रसीद तो रसीद होती है चाहे कच्ची हो या पक्की... बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. रसीद तो होनी ही चाहिए.बढ़िया है प्रयोग कविता में.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ग़ज़ब , कुछ तो प्रमाण हो, या व्यर्थ रहा श्रम?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  7. नया बिम्ब नया प्रयोग . अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. आओ फिर दिल बहलाएँ ... आज फिर रावण जलाएं - ब्लॉग बुलेटिन पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को दशहरा और विजयादशमी की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. चाहत वसूल कर लूँगा!!
    ये कच्ची रसीद बड़ी रिस्की है :)
    रसीद का नवीन प्रयोग कविता में अच्छा है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. रसीद की तीन चार फोटो कापी भी करके धर लो। :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. This information is invaluable. How can I find out more?

    Here is my website: Heel Pain causes

    उत्तर देंहटाएं