बुधवार, 3 अक्तूबर 2012

"सी.टी.सी."........अर्थात.... "कॉस्ट टू कंपनी"..........."


एक साधारण सा टर्म आजकल प्रचलन में है 'सी टी सी ' , जिसका सीधा सा अर्थ है कि कोई व्यक्ति जिस कंपनी / ग्रुप में काम करता है उस कंपनी को उस व्यक्ति को अपने यहाँ काम के बदले कुल कितनी कीमत चुकानी पड़ती है | उस 'सी टी सी' में सभी प्रकार के लाभ , वित्तीय अथवा गैर वित्तीय , जुड़े होते हैं | 

इसी टर्म का प्रयोग अगर एक दूसरे सन्दर्भ में किया जाय तब और ही ज्यादा व्यापक अर्थ निकल आता है | 'कंपनी' का अर्थ किसी का 'साथ' भी होता है | और अक्सर किसी का साथ पाने के लिए कीमत भी चुकानी पड़ती है यथा :

१. किसी राज नेता की सी.टी.सी. -----------अपने सिद्धांतों और निजी जीवन से समझौता |
२.किसी पत्रकार की सी.टी.सी. --------------आपकी निजता और गोपनीयता समाप्त |
३.किसी पुलिस वाले की सी.टी.सी. ---------अपने ही घर में चोर घोषित हो जाएँ ,पता नहीं |
४.किसी माफिया की सी.टी.सी. -------------उसके लिए आप फिरौती के सिवाय कुछ नहीं |
५.ममता की सी.टी.सी. ----------------------समर्थन वापसी का भय |
६.अमर सिंह की सी.टी.सी.---------------- --जया प्रदा विलुप्त  |
७.केजरीवाल की सी.टी.सी.------------------अन्ना का विलीनीकरण |
८.दिग्विजय सिंह की सी.टी.सी.-------------कांग्रेस को लुप्त प्राय करने की ओर अग्रसर |
९.नरेंद्र मोदी की सी.टी.सी.-------------------मुस्लिम वर्ग से बैर , विश्व को नकारात्मक सन्देश |
१०.मायावती की सी.टी.सी.-------------------एक वर्ग विशेष का राज, शिक्षा विहीन समाज | 
११.ट्रेन में महिला सहयात्री की सी.टी.सी.------'आई.ए.एस.' जेल में |
१२. गर्ल फ्रेंड की सी.टी.सी.-------------------समय , सुकून का सत्यानाश और भीगा रूमाल जेब में ।
१३.पत्नी की सी.टी.सी. ------------------------उनके पक्ष में 'एस्क्रो' खाता प्यार का | (escrow account)
१४.बच्चों की सी.टी.सी.-----------------------मुस्कराहट , खिलखिलाहट  और जीवन्तता से भरपूर जीवन |
१५.ब्लॉगर की सी.टी.सी.---------------------बस तारीफ़ करती टिप्पणियाँ |
१६.फेसबुक फ्रेंड की सी.टी.सी.------------------रातों की नींद  |
१७. बॉस की सी.टी.सी. -----------------------पत्नी से नाराजगी |
१८."उनकी" सी.टी.सी.  -----------------------जोखिम जान का |


                            "मेरी सी.टी.सी. --------बस दो बोल प्यार के , फिर तो जान भी हाजिर है |"

20 टिप्‍पणियां:

  1. हर एक कोई कीमत तो चुकता ही है.... रोचक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  2. "आप बड़े अच्छे हैं" लीजिये, प्यार के एक बोल तो बोल दिया, दूसरा कहने में डरता हूँ कहीं आप सच्चो में ना!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. :-)

    बेहतरीन....
    लाजवाब पोस्ट..
    बहुत खूब..
    (पॉइंट नंबर १५ को मद्देनज़र रखते हुए )

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर सी टी सी के साइड इफेक्ट्स :).बढ़िया पोस्ट है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमारे लिए आपकी रचना को पढ़ना..." :-)" का सी टी सी !:)
    रोचक रचना !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा हा, पढ़ते पढ़ते ठहाका मार रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कृपया मन मोहन सिंह की CTC=भारत की पुनः गुलामी और सोनिया गांधी की CTC=छल को और बढ़ाने का कष्ट करें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन अभिव्यक्ति .....
    http://pankajkrsah.blogspot.com पे पधारें स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं