रविवार, 18 मई 2014

"और गुनाह हो गया......"


एक नज़्म सी तुम ,
गुनगुना गया मैं ,
और गुनाह हो गया ,

गहरी नदी सी तुम ,
बह गया मैं ,
और गुनाह हो गया ,

ठंडी बयार सी तुम ,
मचल गया मैं ,
और गुनाह हो गया ,

सुहानी शाम सी तुम ,
ढल गया मैं ,
और गुनाह हो गया ,

पूरा चाँद सी तुम ,
बहक गया मैं ,
और गुनाह हो गया ,

मासूम तबस्सुम सी तुम ,
अश्क मैं पीता गया ,
और गुनाह हो गया ।

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर नज़्म.....
    किये जाइए गुनाह.....इनकी कोई सजा नहीं होगी :-)

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहरे अहसास की नज्म - गुनाह की तासीर गहन लग रही है -

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना मंगलवार 20 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन धरती को बचाओ - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. शहद सी नज़्म
    पी गए हम
    और कोई गुनाह नहीं हुआ :D very sweet.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोमल अहसास की सुन्दर सी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. गजब लिखा है! क्या करें, तारीफ का गुनाह हो गया.… !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कितना सुन्दर लिखते हैं आप.... भाई वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिस गुनाह की सजा नहीं उसे करने में क्या :) सुन्दर नज़्म मिली हमें तो.

    उत्तर देंहटाएं