गुरुवार, 8 सितंबर 2011

"..और वो सयानी हो गई"

बात करते करते, 
अब वो नहीं लपेटती, 
कोना चुन्नी का, 
अपनी उँगलियों में | 
ना ही कुरेदती है, 
मिटटी ज़मीं की, 
पैर के अंगूठे से | 
आँख भी नहीं मीचती अब, 
कमरख खाते खाते | 
ना ही खेलती है, 
जूस ताक,
चियों से इमली के |
अब वो झगडा भी, 
नहीं करती,
हारने पे,
लूडो के खेल में |
ना ही उचक के, 
देखती है, 
खिड़की से बाहर,
आते जाते लोगों को |
पहले अक्सर,
खोल देती थी, 
मौक़ा पा,
बछड़े को खूटें से,
और पीने देती थी, 
उसे भर पेट दूध माँ का | 
पर अब उसे यह भी, 
नहीं अच्छा लगता | 
उसने शायद, 
जान लिया है, 
पढ़ना नज़रों को, 
लोगों की |
हाँ !! बस निहारती है, 
आसमान एकटक,
अक्सर, 
और मुस्कुरा उठती है, 
देख परिंदों को |

"शायद ज़िन्दगी की उलझनों ने उसकी शैतानियाँ कम कर दीं,
और लोग समझते हैं, अब वो सयानी हो गई है |" 

21 टिप्‍पणियां:

  1. सही लिखा है आपने ..उसे हमने पहले ही परिपक्कव बनाना चाह और आज हम उसकी शैतानियों से महरूम हैं .....कहाँ गया वह बालपन और कहाँ गयी वह शरारतें अब सब सोचने को मजबूर करता है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब आँखें बोलने लगती हैं, सयानापन आने लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर अमित जी. बचपन घुमा लाये आप. "ना ही खेलती है,जूस ताक,चियों से इमली के "..
    इमली के चियो को तो मैं भूल ही गया था. शायद उनकी जगह किसी और ने ले ली हैं अब. भीतर तक कही टीस भर गई आपकी यह कविता. वक्त को इस तरह बदलते देख हैरान हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सयाने तो बच्चे ही होते हैं जो जीवन को भरपूर जीना जानते हैं , लेकिन अफ़सोस बढती उम्र के साथ ये स्वछंदता और ये बचपन दोनों कहीं खो जाते हैं और हमारे युवा भी उलझनों भरी उस राह में व्यस्त हो जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. umra ke saath saath , logon ko padhte hue kitna begana ho jata hai khud se aadmi aur samajhdaar kaha jane lagta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद गहरे अर्थों को समेटती खूबसूरत और संवेदनशील रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बचपन और सयानेपन के बीच की पगडंडी का बहुत ही खूबसूरत चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कह रही है आपकी रचना... ऐसी बहुत सी मजबूरियां और जिम्मेदारियां होती हैं इन्सान की जो उसे समय से पहले बड़ा और परिपक्व बना देती हैं... मार्मिक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर अमित sir बचपन घुमा लाये आप. "ना ही खेलती है,जूस ताक,चियों से इमली के "..
    इमली के चियो को तो मैं भूल ही गया था. शायद उनकी जगह किसी और ने ले ली हैं अब.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब शायद वह बचपना भी नहीं रहा। आज के बच्चों को कमरख का भी ज्ञान शायद ही हो। बढिया अभिव्यक्ति के लिए बधाई॥

    उत्तर देंहटाएं
  11. समझदार होने के क्रम में हम हर दिन खुद से बेगाने होते जाते हैं ...
    सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खूबसूरती से एक लड़की के एहसासों को शब्दों में पिरोया है आपने

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी -कभी लगता है कि सयानापन न ही आए तो अच्छा है

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सही कहा आपने
    "शायद ज़िन्दगी की उलझनों ने उसकी शैतानियाँ कम कर दीं,
    और लोग समझते हैं, अब वो सयानी हो गई है |"

    ज़िन्दगी की उलझने जब इंसान की हंसी और स्वछंदता चुरा लेती है , तो सब उसे सयाना समझने लगते हैं | यथार्थ है !!

    visit :
    http://sahitya-varidhi-sudhakar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सच कहा है। बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति॰

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर
    आपको पढना वाकई अच्छा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं