मंगलवार, 19 मई 2015

" रोज़ रात टूटता हूँ "


सवेरे चिपका कर 
नकली हंसी का मुखौटा 
बैठ जाता हूँ 
ज़िन्दगी की हाट में 
महसूस करता हूँ 
लोगों की मुस्कराहट का स्पर्श । 

दिन ढले तक 
आंका जाता हूँ 
मेरी हंसी के मुताबिक 
हर किसी के तय किये दामों में 
आसान नहीं होता 
यूं सुबह शाम 
बेदिल लिबास बदलना 
पर बदलता हूँ 
बदलाव नियति है न । 

रोज़ रात 
समेटता हूँ तन्हा 
फिर वही बिखरी ज़िन्दगी 
जोड़ता हूँ टूटन 
किसी की ख़ुशी की खातिर 
गिरता हूँ फिर
बन कर 'एक टूटता तारा ' ॥ 
********************

11 टिप्‍पणियां:

  1. wow..."गिरता हूँ फिर बनकर एक टूटता तारा" माशाअल्लाह।कहाँ आसान होता है बनना टूटता तारा जिससे कर सके कोई अपनी ख्वाइश पूरी करने की इल्तज़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. तारा बन के रौशनी बिखराना शायद ज़्यादा आसान होता होगा, बनिस्पत एक 'टूटता तारा' बन पाना...। बहुत दिल से लिखी...दिल तक गई...।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, रावण का ज्ञान - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. इतना टूटा हूँ के छूने से बिछड़ जाऊंगा..अब अगर और दुआ दोगे तो मर जाऊंगा...ये ग़ज़ल याद आ गई | -------सुमन कपूर ( उनकी टिप्पणी फेसबुक से कॉपी पेस्ट )

    उत्तर देंहटाएं

  5. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही गहरी और मार्मिक कविता है . अक्सर हम मुखौटे पहनने मजबूर हो जाते हैं अपने आप से दूर ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हृदय की गहराई से लिखी ह्रदय की गहराई को छूती पंक्तियाँ। अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  8. चलन यही है - 'ज़िन्दगी की हाट' का व्यवहार है ये तो !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत ही सुंदर पेशकश....यूँ ही लिखते रहिये.....दाद !!

    उत्तर देंहटाएं