गुरुवार, 22 नवंबर 2012

" कुछ यूँ हैं वो ....."


एक चिराग रौशन ,
करते जैसे कई चिराग ,
खिलखिलाहट भी ,
उनकी यूँ ही कुछ ,
खिला सी देती है ,
तबस्सुम सारे लबों पे ।

मीठी आवाज़ ,
पाक सी उनकी ,
जैसे हो अजान की  ,
इल्म सा कराती ,
वक्त इबादत का |

निगाहें  उनकी ,
तिलिस्म हो जैसे ,
देखती हैं कुछ यूँ ,
कह रही हों  ,
जैसे कोई ग़ज़ल |

खूब सूरत दे खुदा ,
पर इतनी भी न दे ,
कि देखे वे आइना ,
जी भर के ,
और जी न भर पाएँ  |

17 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 24/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब, जब भी उतरती है तो गहरे उतरती है आपकी कविता..

    जवाब देंहटाएं
  3. :):) खूब सूरत दे खुदा ,
    पर इतनी भी न दे ,
    कि देखे वे आइना ,
    जी भर के ,
    पर जी न भर पाएँ |

    खूब सूरत दे खुदा ,
    पर इतनी भी न दे ,
    कि देखे वे आइना ,
    और आईना शर्मा जाए .... बहुत प्यारी रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. मन के भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    जवाब देंहटाएं
  5. खूब सूरत दे खुदा ,
    पर इतनी भी न दे ,
    कि देखे वे आइना ,
    जी भर के ,
    पर जी न भर पाएँ |

    वाह....

    जवाब देंहटाएं
  6. इन खूबसूरतों को किसी की नजर ना लगे !

    जवाब देंहटाएं
  7. :)))... वाह !
    क्या खूब ही सूरत होगी उनकी...
    जो कलम के रास्ते इतनी निखर आई... :)
    ~सादर !!!

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह जनाब, क्या लिखा है .. बेहद खूबसूरत .. और शब्द भी उतने ही अच्छे पिरोये हैं ..
    सादर
    मधुरेश

    जवाब देंहटाएं
  9. खूबसूरत अहसास की लेखनी ...बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  10. bahut hi pyari ..us khoobsurat chehre ki tarah hi khoobsoorat hai aapki rachna :-)

    जवाब देंहटाएं