मंगलवार, 7 अगस्त 2012

" बदसूरत मौत ....एक खूबसूरत की ....."


फूल खुश था,
उन हाथों में जाकर,
हाथ खुश थे,
उसकी ख़ुशबू पाकर |
पर खुशबू,
मुस्काई थी धीरे से,
उड़ जाऊँगी,
सुबह तक मसले फूलों से |
मसले हुए लम्हे,
जब बन गए मसले,
उस फूल के ,
वो हाथ न थे,
कहीं आस पास | 
नाम था फिजा,
उस फूल का,
जो लटकी मिली,
चाँद के सलीब पे |

19 टिप्‍पणियां:

  1. आखरी २ पंक्तियों में कविता की जान है....
    (जिस्में ज़िक्र है किसी की जान जाने का )

    बहुत बढ़िया
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. किसी की जान जाने के ज़िक्र से किसी में जान आ गई |
      आपकी टिप्पणी तो स्वयं में ही कविता बन गई | बहुत खूब | आभार |

      हटाएं
  2. अफसोस जनक घटना पर बहुत अच्छी कविता लिखी है सर!


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. अत्यंत दुखद घटना सच ही कहा है नेता तो अपने बाप के भी सगे नहीं होते

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर , बधाई.

    कृपया मेरी नवीनतम पोस्ट पर भी पधारने का कष्ट करें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक और फ़िज़ा आज फ़िर सलीब पे लटक गई । बहुत ही दुखद और अफ़सोसनाक

    उत्तर देंहटाएं
  6. थड़ा रुक कर, थमकर सोचना होगा महिलाओं को, सबल, जागरूक, सचेत बनना है या सब कुछ होते हुए भी कमज़ोरी का दामन थामे रहना है .....

    उत्तर देंहटाएं