गुरुवार, 23 सितंबर 2010

चाहत कैसी कैसी

         चाहा था छू लूं तुम्हें,
इंकार किया था तुमने,
         रोम रोम से वाकिफ़ हूं अब,
मगर वो बात नही ।
                   ।
                   ।
                   ।
           कहीं वो आकर मिटा ना दें ,
इंतज़ार का लुत्फ़,
          कहीं कबूल ना हो जाए,
इलतिजा मेरी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें