बुधवार, 8 सितंबर 2010

मन

मन आज क्षितिज सा हुआ जान पड़ता है,
दूर से मानो सब समाए मुझमें,
पास आने पर कोई न अपना सा ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें