बुधवार, 18 मार्च 2020

"काश......"

लफ्ज़ मेरे वो,
कुछ खास न थे,
वो ठिठके जब,
ठहर तुम ही गये होते।

अश्क थामे रहा ,
लबों पे ,तबस्सुम से,
निगाहें मिला लेते गर तुम,
दो चार ढल तो गये होते।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें