रविवार, 29 जुलाई 2012

" इंतज़ार.........."


खबर जब से हुई,
आने की उनकी ,
खलबली सी मची क्यूँ है |
ऐसा तो पहले कभी न था ,
एक अच्छी सी बयार चली क्यूँ हैं |
वो आयें ख्वाहिश उनकी ,
दीदार हो जाएँ हसरत अपनी,
पर सबमें बेचैनी इतनी बढ़ी क्यूँ हैं |
चाहने वाले हज़ारों उनको,
फेहरिस्त में भी उनकी,
किस्से हज़ारों |
कतार में उनकी,
मैं सबसे पीछे,
फिर मुझमें इतनी,
खलिश सी क्यूँ हैं |
ये ख्याल था उनका,
जो मीठी सी फुहार पड़ी यूँ है |

16 टिप्‍पणियां:

  1. by god!!! one sided ?????
    एक तरफ़ा इश्क........एक सजा है.
    :-)

    सादर
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  2. मैं सबसे पीछे,
    फिर मुझमें इतनी,
    खलिश सी क्यूँ हैं |

    बहुत सुंदर ....

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह,
    हम क्यों अपना ध्येय बिसारें,
    सहते, यदि वे नहीं निहारें।

    जवाब देंहटाएं
  4. मीठी सी फुहार सा खूबसूरत ख्याल... बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भाव लिए सुन्दर रचना..

    जवाब देंहटाएं
  6. wah nikal gai ,rachna padhte hi .aise hi likhte rahiye -shubh -kamnaye
    pls vsit myblog--purvaai.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  7. क्या बात है ...beautiful..
    खूबसूरत मंजर खींचा है.

    जवाब देंहटाएं