शनिवार, 16 जुलाई 2011

"माँ"

माँ !
एक ओस की बूंद, 
जिसमे चमक सूर्य सी, 
शीतलता अमृत सी, 
तरल सी फिर भी समग्र, 
माँ !
घने पेड़ की छाया सी, 
बयार एक मंद मंद सी, 
मीठी नदी सी, 
माँ !
पास हो, ना हो, 
बस हो, चाहे जहाँ भी हो, 
एक ऐसा सहारा सी, 
माँ !
सूखी  रोटी पर गुड़  की  डली  सी,
जिसके होने पे,
लगे सारी दुनिया अपनी सी, 
और ना होने पे,
कोई ना अपना सा, 
माँ !
तुम बस माँ हो, 
माँ !!

13 टिप्‍पणियां:

  1. आप का बलाँग मूझे पढ कर अच्छा लगा , मैं भी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।
    --
    hai

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत जोरदार प्रस्तुति ||
    माँ सब की माँ
    सादर प्रणाम ||

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर .....माँ को समर्पित इस रचना के लिए बहुत -बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. मां को समर्पित सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  5. माँ को समर्पित रचना जो मन को गहराई तक छू गयी !

    जवाब देंहटाएं
  6. वाकई उनका कोई मुकाबला नहीं ...... वे हैं वहीँ सब कुछ है ...
    शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  7. सच है माँ की व्याख्या नहीं हो सकती... मां तो बस मां है॥

    एक सुझाव--- फ़ांट थोडा बडा रखिए :)

    जवाब देंहटाएं
  8. माँ के प्रति आस्था बढ़ जाती है...जब पत्नी का बच्चों के प्रति त्याग देखता हूँ...

    जवाब देंहटाएं
  9. amit ji..

    achank aapke blog pr maa kavita pdne mili ..
    dilkochhu gai ,,badhai,,,,,
    prakashpralay ktni m.p.....

    जवाब देंहटाएं