शनिवार, 11 जून 2016

" शून्य के भीतर शून्य ........."


शून्य के भीतर भी ,
होते हैं बहुत सारे शून्य ,
जब जब तुम चुप रहे ,
शून्य धंसते गए ,
एक के भीतर एक ,
फिर एक और एक,
कितनी भी बातें ,
कोई और कर ले ,
शून्य में गूँज ,
फिर कभी नहीं ,
पहला शून्य गर तुम ,
खींच लो अलग ,
बस दो बोल ,
बोल तो दो ,
शून्य के पीछे शून्य ,
बहुत सारे शून्य,
दौड़े चले आएंगे,
सब एक कतार में,
करने लगेंगे अठखेलियां
वही सारे शून्य ,
बन कभी निगाहे और ,
कभी तबस्सुम तुम्हारी ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 13 जून 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " वकील साहब की चतुराई - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut khub kripya hamare blog www.bhannaat.com ke liye bhi kuch tips jaroor den

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर। पूर्णमदं पूर्णमिदं, पूर्णात पूर्ण मुदच्यते, पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवा वशिष्यते।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहला शून्य गर तुम ,
    खींच लो अलग ,

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    संजय भास्‍कर
    शब्दों की मुस्कुराहट
    http://sanjaybhaskar.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. शून्य में बसी निगाहें और उसमें झलकती खूबसूरती बहुत खूब .

    उत्तर देंहटाएं