शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2013

" लालटेन सी ज़िन्दगी ......"


जलाता हूँ रोज़ ,
थोड़ा थोड़ा खुद को ,
रोशनी तो होती है ,
पर इर्द गिर्द ,
जमा कालिख भी होती है ,

मन मैला होता है जब ,
मांजता हूँ पोंछता हूँ ,
धीरे से बुझी बाती को बढाता हूँ ,
फिर से जलाने के लिए ,

पहले रोशनी अधिक ,
और कालिख कम थी ,
अब कालिख के आगे ,
रोशनी नम है ,

अब बाती बुझने को है ,
एक दिन भभक कर ,
रोशनी जब होगी खूब ,
ज़िन्दगी फिर तुझे ,
कालिख के नाम कर दूंगा ।

15 टिप्‍पणियां:

  1. रोशनी बँधी काँच से, प्रेरित तेल से। सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-10-2013) के चर्चामंच - 1397 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 13/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    और हमारी तरफ से दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें

    How to remove auto "Read more" option from new blog template

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद अच्छी लगी कविता।

    आपको सपरिवार विजय दशमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर...वाकई लालटेन सुंदर बिंब बन उभरा है मनोभावों को व्‍यक्‍त करने के लि‍ए

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर बिम्ब और सुगठित शब्दों में भाव तरह उभर कर आये हैं.
    बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं